फैक्ट चेक – PM मोदी से नाराज BJP समर्थक ट्रक ड्राइवर को मिला राहुल गाँधी का साथ? या सच्चाई कुछ और, जानिए क्या है पूरा सच –

दावा – अमेरिका यात्रा के दौरान राहुल गांधी जिस ट्रक ड्राइवर से मिले, वह पूर्व में भाजपा समर्थक था। वह बीजेपी की सांप्रदायिक राजनीति से खुश नहीं है, कई कांग्रेस समर्थक इस दावे को सही ठहरा रहे हैं I

यात्रा के दौरान ट्रक ड्राइवर ने बताया कि वह बीजेपी समर्थक था लेकिन उसने भारत छोड़ दिया क्योंकि 2014 से भारत में नौकरियां नहीं हैं और बीजेपी सांप्रदायिक राजनीति कर रही है.

जानिए क्या है पूरा मामला –

हाल ही में राहुल गांधी ने अमरीका का दौरा किया है और उन्होंने दावा किया है कि उन्होंने एक सामान्य ट्रक ड्राइवर के साथ यात्रा की है। एक ट्रोल ट्विटर अकाउंट ने लिखा कि ड्राइवर भाजपा समर्थक था, वह भाजपा की साम्प्रदायिक राजनीति के कारण खुश नहीं था I लेकिन हमारी टीम ने फैक्ट चेक कर पता लगाया कि वह कोई सामान्य ट्रक ड्राइवर नहीं था I

कौन है ट्रक ड्राइवर –
ड्राइवर का पूरा नाम तलजिंदर सिंह विक्की गिल है और ये Indian Overseas Youth Congress America (IOYCA) के प्रेसिडेंट हैं I जी हां, आपने सही सुना है। ये कोई आम ट्रक ड्राइवर नहीं बल्कि IOYCA के प्रेसिडेंट हैं I 20 जुलाई, 2019 से एक अन्य पोस्ट के अनुसार, वह अमेरिका में इंडियन ओवरसीज कांग्रेस (IOC) के युवा अध्यक्ष बने I

भारत जोड़ो यात्रा में भी थे शामिल

जिस ड्राइवर को बीजेपी समर्थक बताया जा रहा है उसने राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होकर उनके लिए PR का काम भी किया था I

यहां वे PR इमेज मेकओवर इवेंट Bharat Jodo Yatra में राहुल गांधी के साथ दिख रहे हैं I

NSUI के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं –

NSUI भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की छात्र शाखा है, जिसकी स्थापना 9 अप्रैल 1971 को हुई थी। ट्रक चालक के फेसबुक प्रोफाइल के अनुसार उसका नाम तलजिंदर सिंह विक्की गिल है। 2016 की उनकी पोस्ट कहती है कि तलजिंदर पंजाब के दाखा गांव से भारतीय राष्ट्रीय छात्र संघ (NSUI) के उपाध्यक्ष थे।

भारतीय विदेशी युवा कांग्रेस अमेरिका के अध्यक्ष के रूप में काम करने से पहले वह एनएसयूआई के उपाध्यक्ष थे।

दावा गलत साबित हुआ –
इन सभी बिंदुओं से यह स्पष्ट हो जाता है कि ट्रक ड्राइवर जिसने राहुल गांधी को न्यू जर्सी ले जाने की पेशकश की थी, कभी भी भाजपा का समर्थन नहीं किया है। उन्होंने NSUI केअध्यक्ष के रूप में कार्य किया, और बाद में वे अमेरिका में यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बने। वह लंबे समय से कांग्रेस से जुड़े हुए हैं। उनके और राहुल गांधी के बीच बातचीत को BJP के खिलाफ एक प्रोपेगंडा के तहत पहले से तय किया गया था I

यह भी पढ़ें –

Leave a comment